ताजा खबर
बिहार में तो लड़ेंगी जातियां ही गिरमिटिया महोत्सव के रूप में मानेगा लोकरंग 2019 कूड़े के ढेर पर बैठी काशी ! अतिक्रमणकारी थे तो उन्हें मुआवजा क्यों
विदेश में तो बज ही गया डंका

गिरीश मालवीय 

नई दिल्ली .एक बार फिर विदेशों में मोदी जी का डंका बजा ओर ऐसा बजा कि नगाड़ा ही फूट गया.जरा याद कीजिए कि पिछली बार साबरमती के तट पर चीनी राष्ट्रपति को कैसे झूला झुलाया जा रहा था आज जिंग पिंग की बारी थी इस बार उन्होंने भी झूला दे दिया.
 
आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के चीफ मसूद अजहर को एक बार फिर संयुक्त राष्ट्र में वैश्विक आतंकी घोषित नहीं किया जा सका क्योकि चीन ने फ्रांस, अमेरिका और ब्रिटेन द्वारा मसूद के खिलाफ संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में लाए गए प्रस्ताव के खिलाफ बुधवार को वीटो लगा दिया.
मोदी सरकार की संयुक्त राष्ट्रमें यह लगातार तीसरी नाकामी हैं सरकार ने सबसे पहले 2016 में मसूद को वैश्विक आतंकी मानने का प्रस्ताव रखा चीन ने पहले मार्च 2016 ओर फिर अक्तूबर 2016 में भारत की कोशिशों को नाकाम कर दिया. 2017 में एक बार फिर अमेरिका ने ब्रिटेन और फ्रांस की मदद से प्रस्ताव रखा लेकिन इस में चीन ने वीटो लगा दिया.
 
मोदी चार साल में चीन के चार चक्कर लगा चुके हैं तो आखिरकार क्या यह पूछा नही जाना चाहिए कि मोदी जब बार बार चीन दौरे करते हैं उसका क्या फायदा हुआ? चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग की अति महत्वाकांक्षी परियोजना बेल्ट रोड इनिशिएटिव पर हमने क्या कड़े कदम उठाए हैं?
 
चीनी कम्पनियों को जो हर तरह की सुविधा दी जा रही हैं वह क्यो दी जा रही हैं? आज मोबाइल का मार्केट पूरी तरह से चीन के कब्जे में जा चुका है जहाँ देखिए वहाँ बाज़ार ओप्पो वीवो।जैसे चाइनीज ब्रांड का माल मिलता है लावा माइक्रोमैक्स सरीखी कंपनियां बंद जैसी ही हो गयी हैं आज यही से पैसा जाता है और बदले में चीन हमे आँखे लाल कर के दिखाता है.
 
अब मोदीजी चीन के लिए ऑटोमोबाइल सेक्टर भी खोल रहे है, चीन से आयात रिकार्ड हाई पर पुहंच गया है और निर्यात कम होता जा रहा है चीन के साथ व्यापार घाटा देश की अर्थव्यवस्था पर बहुत भारी पड़ रहा है, उसके बावजूद भारत चीन पर प्रेशर नही डाल पा रहा है तो यह मोदीजी की विदेश नीति की असफलता क्यो नही मानी जाए?कोई बताए.
email ईमेल करें Print प्रिंट संस्करण
  • भरत के बदले दागी,नहीं सहेगा बलिया बागी !
  • मोदी ही देश ,मोदी ही सरकार और मोदी ही पार्टी !
  • अख़बारों की लीगल रिपोर्टिंग का यह हाल !
  • पश्चिम में तो गठबंधन भारी,भाजपा की राह मुश्किल
  • छतीसगढ़ में भाजपा का रास्ता आसान नहीं
  • अतिक्रमणकारी थे तो उन्हें मुआवजा क्यों
  • साहब की 'सुरुआत' तो फीकी फीकी रही
  • अडानी के सामने बघेल भी दंडवत !
  • कमलनाथ ने ही घेरा है दिग्विजय को ?
  • बनारस में कौन होगा विपक्ष का उम्मीदवार ?
  • कूड़े के ढेर पर बैठी काशी !
  • छतीसगढ़ में आक्रामक हुई भाजपा
  • बिहार में तो लड़ेंगी जातियां ही
  • गिरमिटिया महोत्सव के रूप में मानेगा लोकरंग 2019
  • भाजपा ने हारी हुई सीटें जदयू को दी
  • तो शत्रुघ्न सिन्हा अब कांग्रेस के साथ
  • प्रियंका गांधी से कौन डर रहा है ?
  • तो अब धरोहरों से मुक्त हुई भाजपा
  • साढ़े तीन दर्जन दलों की नाव पर सवार हैं मोदी !
  • यह दौर बिना सिर पैर की ख़बरों का भी है
  • Post your comments
    Copyright @ 2016 All Right Reserved By Janadesh
    Designed and Maintened by eMag Technologies Pvt. Ltd.